Tere mere darmiyan


“तेरे मेरे दरमियाँ” is a poem on crush or should I say one sided love.

Each one of us falls in love at one time or the other. Some people are very lucky who get a chance to spend their whole life with their loved ones. On the other hand there are some persons who love someone a lot, but are never able to express their love in front of them due to any x, y, z reason.

This poetry is based on that kind of unsaid love and also leaves me with a question, that if unsaid love was so intense what would have happened if that love would have got it words.

ऐसी कौन सी मन्नत मांगो कि, मेरे दिल की अमावस ईद हो जाए,
तू आए मेरे सामने और मेरे होठों से वो बात निकल जाए...

कहने को तो लाखों शब्द होंगे, कह पाए तुम से, वो दिल की दासता तो कोई बात हो,
होने को सब है पास मेरे, तू साथ हो तो कोई बात हो...

जज़्बात मोहताज़ नहीं इस जमाने के रिवाजों के,
ठहरे हुए है वो, इंतजार मे, तेरे अल्फाजों के...

तेरा सामने होना, मेरे रूह को महका देता है,
कुछ कहे बिना ही, सब कुछ बयां कर देता है...

कभी झुकी पलकें भी कई सवाल पूछ लेती है,
और तेरा मुस्कुराना, अनजाने में कोई पहेली सुलझा देता है...

अरमान बन गये हो, तुम मेरे पहचान बन गये हो,
खाव्हिशो की सुबह, ख्वाबों की शाम बन गये हो...

बस अल्फाज़ो की ही कमी है तेरे मेरे दरमियाँ,
कुछ ना हो के भी, सब कुछ है, तेरे मेरे दरमियाँ...

- Deepika Janiyani

Since you are already here, please do leave your views on this poem in the comment section below.

Advertisements

39 thoughts on “Tere mere darmiyan

Add yours

  1. बताता है आइना मुझे कैसी बेरुखी से
    की मैं मरहूम होता जा रहा हूँ रौशनी से

    किसे इल्जाम दूँ मैं अपने बर्बाद होने का
    सारे फैसले किये मैंने खुद ही अपनी ख़ुशी से

    मुझे अब तक बहुत ख्वाईश थी खुद से गुफ़हतगु की
    मगर मैं छुपता फिर रहा हूँ अपने आप ही से

    हर लम्हा रहती है एक ताज़ा शिकायत
    कभी खुद से और कभी ज़िन्दगी से

    Like

  2. जज़्बातो को शब्दों में पिरोना कोई सीखे तो तुमसे….. किसी को अपनी प्रेरणा बनना कोई सीखे तो तुमसे…

    Like

  3. This is simply the best poem I’ve ever read…

    The very first verse itself won my heart and your emotions can clearly be felt throughout.

    Like

  4. Hmmm Deepika beautiful poem and so much depth in it, and yes that is life where there r people who r made for each other and others r like how u have described. That is life friend.👌👌👌👌👌👌

    Like

Leave back your thoughts for us.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑

%d bloggers like this: